Home / Hindi Love Shayari / Short Stories In Hindi
GF and BF romantic photo

Short Stories In Hindi

शीर्षक – और कुछ ना कहा जाएगा…..
दोपहर का वक्त
दूर तक फैली हुई धूप,झुलसा देने वाली गर्मी के होते सुनसान-सी गलियां,चारों तरफ सन्नाटा ,इन गलियों से थोड़ी दूर नीम के पेड़ की छांव के नीचे तालाब किनारे अक्षयत की गोद में लैटी श्रेया ।
अक्षयत -(श्रेया से) अच्छा एक बात पूछूं तुमसे
श्रेया -(अपनी निगाहों को ऊपर उठाकर हामी भरकर ) हाँ बोलो।
अक्षयत (लंबी सांस भरकर ) वैसे नहीं भी कहूं तो कभी ना कभी ये होना ही है,तुम्हारा ठीक है,ये प्यार रास आ जाता है तुम्हें
हम जैसे दीवाने ही घिसे जाते है हरदम ,अब तुम्हें ही देख लो
कितने यकीन के साथ लैटी हो गोद में खजंर चलाने के बाद
श्रेया(अक्षयत की बाजू को कंधे से पकड़कर उठ जाती है )कैसी बातें कर रहे हो ,मैंनें क्या कर दिया
अक्षयत(अगल-बगल देखकर ) वाह जी वाह बस यही बाकि था किसी का घर बसाने जा रही हो मेरा घर तोड़कर और पूछती हो मैंनें क्या कर दिया
श्रेया (गर्दन झुकाकर धीमे स्वर में ) मैं तुम्हें बताने वाली ही थी
अक्षयत( थोड़ा गुस्से से) कब? जब पूरे जमाने को पता चल जाए तब,सब कहते थे यही होगा,पर मैंनें नहीं माना,भरोसा था न,तुम पर
और देख लो ले डूबा भरोसा मुझे
श्रेया (रोते हुए) तुम्हें तो चैन ही नहीं मिलता मुझे रूलाए बगैर,तुम्हें क्या लगता है मेरे लिए आसान है ये सब
अक्षयत- हाँ नहीं है आसान, पर कितने दिन के लिए २ या ३ उसके बाद फिर वहीं हँसी खुशी सब तुम्हारे पास तो ,
और मेरे साथ क्या होगा पता है मेरा दिल नही टूटा,भरोसा टूटा है,भरोसा समझती हो तुम
अब क्या होगा इससे मेरी जिदंगी में,मैं बताता हूँ किसी ओर से बातें करने तक का मन नहीं करेगा,क्योंकि तुम्हारे लिए तोये एक खेल-सा है पर हमारे लिए नही,
अब अकेला रह नही पाऊँगा।
श्रेया(बात काटते हुए)- हाँ बोलो ,दो दोष मुझे, मेरे हालात तो समझ नही सकते,मेरे ऊपर क्या बीत रही है,मैं चाहती हूँ जितना वक्त तुम्हारे साथ गुजरे उतना ठीक,सारी चीजें तो बदल नहीं सकते हम ।
अक्षयत चुप हो जाता है।
श्रेया- बोलो अब ।तुम हर बार हमें दोष देते ह,तुमने क्या कर दिया प्यार के लिए।
अक्षयत- हमने कुर्बानी दी है हमेशा,दिल पे पतिथर रखा है हमेशा,सुनना चाहती हो सच तो सुनो,बेवफा बो तुम । तुम्हारी बहन ने बताया मुझे कि कितनी खुश हुई तुम रिश्ता आते ही,वही एक सरकारी पति की लालसा।
कहता भी बहुत और तुम्हें मानता भी बहुत था ।
पर तुम बेवफा हो इसके अलावा और कुछ नहीं कहा जाएगा

इस पोस्ट का शीर्षक आप खुद चुन लेना
अपनी तरफ से
नोट – मैं इस पोस्ट के माध्यम से किसी की भावना को आहात नहीं पहुन्चाना चाहता हूँ ,बल्कि मैं कुछ चीजों का जिक्र करना चाहता हूँ जो खासकर गांव या छोटे कस्बो में पाई जाती है ।
तो बात शुरू होती है कि गांव के लोग बड़े भोले-भाले होते है
और प्रेम रखते है हर चीज से
और कुछ ऐसा ही प्रेम मिलता है इनका आवारा जानवरों के प्रति । अब जैसा कि आप जानते हैं हमारे यहाँ आवारा कुत्ते और कुतियां पाई जाती है ,कुछ गांव में जब ये जानवर अपनी पिल्लों को जन्म देते है तो ,इनको बारिश, सर्दी आदि से बचाने हेतु गांव के लड़के इनके लिए घास-फूस से एक छोटा घर बनाते है ,जिसमें इन्हें वो इनके पिल्लों के साथ सुरक्षित रखते है और फिर वही लड़के शाम के वक्त टोली बनाकर एक खास बर्तन में घर-घर जाकर इनके लिए दूध मांगते है (जिसे आम भाषा में मलोटा कहा जाता है,आपके यहाँ पर इसे क्या कहते है कोमेन्ट करके बताएं) । उन बच्चों का वो स्नेह और उनकी भावना देखने लायक होती है
जोकि बच्चे भगवान का रूप होते है, कहावत को सिद्द करती है । ऐसी ही भावना मानव हित के लिए और प्रकृति के लिए बेहतर होती है ,जो हमें संदेश देती है कि सभी प्रजातियों से प्रेम करो और उनका सहारा बनो। ऐसी ही कई ओर भावना होती है जिनका जिक्र हम अगली पोस्टों में करते रहेंगें।
तब तक अपने साथ-साथ दूसरों का ख्याल रखें और अच्छाई की भावना अपने अदंर जीवित रखें ।
आपका अपना
लेखक अमर नैन

एक सच्ची घटना
अभी कुछ दिन पहले की बात है मैं सरकारी संस्थान में गया हुआ था
वहां रिस्पेशन के पास लगी कुर्सियों पे उचित दूरी बनाकर कुछ लोग बैठे है सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते हुए
उनमे एक युवती अपने हस्बैंड और तकरीबन ४ साल बच्चे के साथ बैठी थी
उनसे कुछ ही दूरी मैं बैठ गया ,दरसल मुझे किसी से मिलना था वहां
वहां एक स्क्रीन पर न्यूज़ चल रही थी कि कैसे
गरीब मजदूरों पैदल घर की तरफ जा रहे हैं और उन्हें क्या परेशानी हो रही हैं,
आमतौर पर मैं खबर नहीं देखता ,पर समय व्यतीत करना था तो देख रहा था
तभी न्यूज रिपोर्टर ने बताया कि इन्हें खाना भी नहीं मिल रहा भूख से परेशान हो रहे हैं
इसी बात पर उस लड़के ने अपनी पापा से कहा पापा ये ऐसा क्यूँ कह रहे हैं कि अभी कुछ दिन पहले तो न्यूज मे दिखाया था खाने का पूरा ट्रक आया है ,तो ये भूखे कैसे है
पापा कुछ नहीं बोलते ।
तभी उसके पापा काम से अन्दर चलें जाते हैं और न्यूज लगातार चलती रहती हैं
रिपोर्टर बार-बार कहती है देखिए कैसे जाएंगे ये भूखे प्यासे पैदल।
लड़का फिर अपनी माँ की तरफ देखता है और कहता है माँ इनको खाना नहीं मिल रहा ,पर खाना तो जरुरी है ना लाइफ में ,ये बिन खाने कैसे जीएंगें
माँ इधर उधर देखकर अपने बेटे को चुप करवा देती है,लोगो के डर से ।
अब बात आती हैं इस कहानी की सबसे अहम बात
क्या उस लड़के को चुप कराना सही था ?
जैसे ही उस लड़के को चुप करवाया गया मुद्दा खत्म हो गया ,उसका सवाल जायज था ,पर उसकी सोच खत्म कर दी गई,जरुरी था उसको जवाब देना ,ताकि वो भी जिम्मेदारी समझ सके ,समझ सके गरीब लोगों की तकलीफें।

दीया तेल का

घनघोर अँधेरे के छोटे से घर में अमित बारिश से भीगता हुआ झोपड़ी के गेट के  बराबर गेट से अपनी गर्दन नीचे की ओर झुकाए अंदर घुसता है अपने गीले बालों पे हाथ फिराता हुआ पुकारता है माँ सुनो
आज दूसरी कंपनी में इंटरव्यू देकर आया हूँ
कहते हुए अपने बेग को सामने पड़ी टूटी सी कुर्सी पर रखता है और उसमे से एक मिठाई का डब्बा निकालता है
माँ अपने हाथ पौन्छ्ते हुए आती है,इतने में अमित डब्बा सामने करता हुआ मुझे नौकरी पर रख लिया है 20 हजार महीने के पगार पर।
पर बेटा इसकी क्या जरुरत थी
ये पैसे कहीं ओर काम आ जाते ,तुम अकेले ही तो कमाने वाले हो और अभी कितना उधार बाकि है सब तुझे ही चुकाना है
सब हो जाएगा माँ बस आप जल्दी से खाना लगा दो
बहुत भूख लगी है मैं तब तक पापा के पास जाकर आता हूँ
अभी लगाती हूँ बेटा
माँ रसोई में जाती है एक कोने में तेल का दीया जला हुआ है जो जितना हो सकता है उतना अँधेरे को दूर करने की कोशिश कर रहा  है । अमित की माँ तीन चार अलग अलग बर्तनों में से चावल सब्जी और रोटी निकालकर  इक थाली में डालती है ।उधर अमित एक छोटे से कमरे में घुसता है जहाँ पर पुरानी चारपाई पे उसके पिता लेते हुए होते है बिलकुल कमजोर और की उम्र के करीब ,अमित उनके पैर छूता है और जॉब की खुशखबरी सुनाता है वो खुश होकर उसके सर पर हाथ रखा देते है,अमित उनको खाना खा लिया पुछता है और उसके पिता हामी भर देते है। फिर अमित की माँ उसे पुकारती है और अमित हाथ धोकर खाना खाने बैठ जाता है उसके माँ उसके साथ बैठी होती है अमित कहता है माँ अब अच्छी तनखवाह है अब हम किराए पे घर ले लेंगे कब तक इस अँधेरे घर में वक्त बिताओगी माँ । खाना खा लिया जाता है और ऐसे ही अच्छे भविष्य की बातें करते रहते है ।ये सारी बातें रसोई में जल रहा दीया सुन रहा होता है,उसे लग रहा होता है कि उसकी अब ज्यादा जरुरत नहीं है,यह सोचता हुआ ओर दिनों की बजाय वह अपने आपको जल्दी बुझा लेता है यह सोचते हुए कि अब शायद ही फिर जगना पड़े और बुझी हुई लौ में अपनी निशानी छोड़ देता है।
अगली सुबह फिर नया सिलसिला शुरू होता है ।अमित सुबह हल्का फुल्का नाश्ता करके जॉब के लिए निकल जाता है,उसकी माँ उसके पिता को खाना देकर अपने घर के कामों लग जाती है,सब कुछ बिलकुल पहले जैसा होता है सबके चेहरे पे खुशी की झलक है अमित की माँ मोहल्ले की अपनी सहेलियों को अमित की नौकरी की बात बता रही होती है ।अमित के पिता भी बिस्तर में लेटे मुस्कुरा रहे हैं ।पर वो अकेला जो पूरी रात रोकर बुझ चुका है उसके ऊपर किसी का ध्यान नहीं है।शायद अब उसकी जगह अच्छी रौशनी वाली टयूबलाईट ले लेगी और उसे किसी कचरे के ढेर में फेंक दिया जाएगा। ऐसे ही जाने कितने दीए यूं ही बुझ गए है।

About admin

Check Also

Poetry On Girls and Boys In Hindi

हम फूल है, हमें खिलने दोआँगन से बाहर फिरने दोतुम बेटे हो,बस अपना फर्ज निभाओऔर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *